उपिंदर सिंह द्वारा प्राचीन और मध्यकालीन भारत का इतिहास

प्राचीन इतिहास और मध्यकालीन इतिहास को समझने के लिए हमें यह समझना होगा कि सॉन्ग प्राचीन इतिहास और मध्यकालीन इतिहास के क्रमानुसार को समझें ताकि हम यह समझ पाएंगे कि प्राचीन इतिहास किस क्रम में आगे बढ़ी है और मध्यकालीन इतिहास किस क्रम में आगे बढ़ो अगर हम को समझ पाएंगे तभी हम जान सके प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास को समझना जरूरी है

  1. प्राचीन कालक्रम (5 लाख से 1206)
  2. मध्यकालीन कालक्रम (1206 से 1707)
  3. संदर्भ पुस्तकें और
  4. पूर्व इतिहास
  5. सिंधु घाटी सभ्यता 2600 ईसा पूर्व से 1800 ईसा पूर्व तक
  6. ताम्रपाषाणकालीन तांबे की संस्कृति 1800 ईसा पूर्व से 1500 ईसा पूर्व
  7. 1500 ईसा पूर्व में आर्यों का आगमन
  8. प्रारंभिक वैदिक काल 1000 ईसा पूर्व से 1000 ईसा पूर्व
  9. उत्तर वैदिक काल 1000 ईसा पूर्व से छठी शताब्दी तक

प्राचीन इतिहास में हम भारत के 16 महाजनपदों का अध्ययन करते हैं और उनके वंश का अध्ययन करते हैं जैसे हर्यंक वंश, शिशुनाग वंश, नंद वंश, मौर्य वंश और फिर गुप्त साम्राज्य। खाद मोरिया काल को समझती है और संगम युग को समझती है।

प्राचीन कालक्रम (5 लाख से 1206)

हमें इतिहास को समझने से पहले यह समझना होगा कि प्राचीन इतिहास कैसी थी हम आज इस प्राचीन इतिहास को पढ़ रहे हैं यह प्राचीन समय में कैसे थे इसका सही सही अंदाजा लगाना संभव नहीं लेकिन हम कुछ तथ्यों के आधार पर हम अपने प्राचीन इतिहास को पता लगाने का प्रयास करते हैं

हम इतिहास को प्रमुख रूप से 3 भाग में पढ़ते हैं पहला भाग प्रीहिस्ट्री कहलाता है तथा दूसरा भाग प्रोटोहिस्ट्री कहलाता है कथा तीसरा भाग हिस्ट्री कहलाता है हमें यह समझना चाहिए कि प्रीहिस्ट्री की कोई भी प्रमाण या कोई भी रिकॉर्ड नहीं हम सिर्फ अंदाजा लगाते हैं जैसे कि पासान योग्य युग

प्रोटोहिस्ट्री में हमारे पास कुछ रिटर्न रिकॉर्ड होते हैं लेकिन हम उन रिकॉर्ड को पढ़ने में सक्षम नहीं होते हमारे पास रिटर्न होने के बावजूद हम उसे समझ नहीं पाते हैं जैसे कि इंडस वैली सिविलाइजेशन

इतिहास में हम उन चीजों को बढ़ते हैं जिसकी एक लिखित प्रमाण होती है और हम उन प्रमाण के आधार पर ही इतिहास का अध्ययन करते हैं

मध्यकालीन कालक्रम (1206 से 1707)

मध्यकालीन इतिहास में हम दिल्ली सल्तनत तथा मुगल साम्राज्य के बारे में अध्ययन करते हैं दिल्ली सल्तनत कहने का मतलब यह है कि दिल्ली पर जब सल्तनत का राज्य था उस समय को अध्ययन करते हैं सल्तनत राज्य कहने का मतलब गुलाम वंश खिलजी वंश तुगलक वंश सैयद वंश और लोदी वंश से है जबकि मुगल साम्राज्य कहने का मतलब बाबर हुमायूं अकबर जहांगीर शाहजहां औरंगज़ेब है तथा दक्षिण भारत के कुछ रीजनल किंगडम जैसे कि बहमनी राज्य और विजयनगर है

A history of Ancient and Medieval India by Upinder Singh in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.